जूते का व्यवसाय Shoes Wholesale & Retail Business

आधुनिक युग में जूते का व्यवसाय बड़ा ही कारगर एवं उपयोगी है। इसका कारण यह है कि व्यक्ति अमीर हो गरीब हो, सुखी हो, दुखी हो, नौकरी पेशा वाला हो, बेरोजगार हो, छात्र हो, अध्यापक हो या कोई और हो जूता पहनता ही पहनता है।

जूते की उपयोगिता Importance

जूते की उपयोगिता को न तो अनदेखा किया जा सकता है और न ही किसी भी दशा मे इससे मुँह मोड़ा जा सकता है। चाहे क्षेत्र राजनीति का हो, शिक्षा का हो, खेल-कूद का हो, चिकित्सा का हो जूते का वर्चस्व देखते ही बनता है।

यदि बात हम शिक्षा के क्षेत्र की करें तो हम पायेंगे कि बुनियादी शिक्षा से लेकर उच्च स्तरीय शिक्षा के सभी चरणों तक जूता एक अति महत्वपूर्ण पहलू है जहाँ पर स्कूली बच्चों को विद्यालयों के नियमानुसार विभिन्न प्रकार के परिधानों के अनुसार उससे मिलते-जुलते जूते पहनना अनिवार्य होता है। साथ ही साथ वही बच्चे जब खेल-कूद के क्षेत्र में आते हैं तो उनके जूते का रंग और प्रकार बदल जाता है। शिक्षा के अगले पड़ाव पर हम नजर डालें तो पता चलेगा कि स्कूल, कालेज, विश्वविद्यालय के छात्र एवं छात्राओं के द्वारा विभिन्न प्रकार के जूते (जिसमें सस्ते, सामान्य, मँहगे और प्रचलन के अनुसार आदि सम्मिलित हैं) धड़ल्ले से पहने जाते हैं।

जूता मानव जीवन के प्रयोग में आने वाले सभी संसाधनों में पहले नम्बर पर आता है, समाज का कोई भी वर्ग इसके प्रयोग से अछूता नहीं है। नगरपालिका के भंगी से लेकर भारत के राष्ट्रपति की कुर्सी पर विराजमान व्यक्ति के पैरों में जूता ही सुशोभित होता है। कुल मिलाकर यह देखा जाय तो जूते का व्यवसाय करना हर दृष्टिकोण से फायदेमन्द व कमाऊ बिजनेस है जिसमें जोखिम नही के बराबर है।

जूते के कारोबार की शुरुआत Buy From Factory ( Don’t buy From Traders)

जूते की बहुत बड़ी-बड़ी कम्पनियाँ भारत के मशहूर शहरों जैसे- मेरठ, आगरा, कानपुर आदि स्थानों पर स्थापित हैं जो व्यापक पैमाने पर बहुत सस्ते जूते से लेकर बहुत मँहगे जूतों का निर्माण करती हैं। यदि जूते के कारोबार की शुरुआत करनी है तो इन शहरो में जाकर इन कम्पनियों से सम्पर्क साधकर अपनी लागत पूँजी में जूतों को उस स्थान पर सीधे मँगाया जा सकता है जहाँ पर आपको या हमें अपने व्यवसाय की शुरुआत करनी है।

यदि आपको अपने नाम के लोगो या किसी विशेष नाम की ब्रांडिंग करानी हो तो जूते बनाने वाली कम्पनी को पूर्व सूचना देकर इस कार्य को बड़ी सरलतापूर्वक व सुविधाजनक तरीके से कराया जा सकता है। पहले पहल यदि हमें जूतों की सस्ती खेप मँगानी है तो इन बड़ी-बड़ी कम्पनियों में 100 या 125 रुपये की लागत में निर्मित जूते मिल जाते हैं जिनका बाजार मूल्य इन लागत मूल्यों से तीन गुना या चार गुना तक होता है। यदि व्यक्ति की अभिक्षमता या माली हालत थोड़ी बेहतर है और वह इस व्यवसाय में सामान्य से थोड़ा अधिक पूँजी खर्च करता है तो मुनाफे की सम्भावना उसी अनुपात में और ज्यादा बढ़ जाती है।

व्यापार को शुरु करने के लिये आवश्यक बाते

इस व्यापार को शुरु करने के लिये कुछ प्रमुख बिन्दुओं पर ध्यान देना बहुत आवश्यक है जो निम्नवत है।

जूते के कारोबार को शुरु करने के लिये बाजार में एक कमरा (खुद का या किराये पर) लें और जूते के रखरखाव हेतु समुचित मात्रा में लकड़ी या प्लास्टिक के रैक का इन्तजाम करें ताकि जूतों को सुविधानुसार अच्छे लुक में सजाकर पंक्ति दर पंक्ति रखा जा सके साथ ही साथ जूतों को रगड़ आदि से जो नुकसान पहुँचने की सम्भावना होती है उससे बचा जा सके। कमरे का चयन करते समय इस बात का ध्यान रखें कि कमरे में हवा एवं प्रकाश का उचित प्रबन्ध हो शीलन आदि न हो अर्थात् कमरा वाटरप्रूफ हो नही तो चमड़े और कपड़े के जूतों को नुकसान पहुँचने की आशंका रहती है। कमरे में ग्राहकों को बैठने हेतु उचित स्थान हो जिससे ग्राहक बड़ी आसानी से जूते की नाप व परख कर सकें।

जूते के व्यापार के लिये सही मार्केटिंग एवं प्रचार-प्रसार माध्यम

किसी भी व्यापार को सफल बनाने के लिये यह आवश्यक है कि उसका प्रचार-प्रसार सही तरीके से सही दिशा में किया जाय क्योंकि कहा भी गया है कि जो दिखता है वो बिकता है। अतः अपने व्यवसाय के विज्ञापन के लिये पोस्टर व पम्पलेट लगवायें जाय। स्थानीय बाजारों में छोटे-छोटे हैण्डबिलों के द्वारा लोगों को जानकारी दें। व्यवसाय के उदघाटन के लिये एक तिथि तय करें तथा स्थानीय लोगों के अलावा कुछ समाज प्रसिद्ध लोगो को आने का निमन्त्रण दें।
इसके अलावा आप व्यवसाय के प्रचार-प्रसार के लिये इन्टरनेट के विभिन्न पहलुओं जैसे- फेसबुक, वाट्सअप, इन्ट्राग्राम, जी प्लस, ट्विटर इत्यादि सोसल मीडिया माध्यम की सहायता ले सकते हैं।

इस बिजनेस के लाभ Profit In Shoes Business

इस व्यापार को करने का बड़ा लाभ यह है कि इसमे नुकसान होने की सम्भावना नहीं के बराबर है और शुरआती परिश्रम के बाद अपनी आर्थिक क्षमता व परिश्रम के आधार पर व्यवसाय को धीरे-धीरे व्यापक पैमाने पर बढाया जा सकता है और क्रमशः भारी मुनाफा कमाया जा सकता है। यह व्यवसाय इसलिये सुरक्षित भी है क्योंकि जूते की खपत बड़ी आसानी से लोगों के द्वारा होती रहती है। इस बिजनेस से आप दुगुना, तीन गुना या चार गुना लाभ कमा सकते है।

Hawai Chappal Making Business || Pen Making Process & Business || Paper Plate & Dona Making Business    || Candle Making business || shoes wholesale business || Textile Business || Top 5 Business Ideas In Low Investment || Phenyl Making Business || Detergent Powder Manufacturing Business ||  Wire Nail Manufacturing   Camphor Tablet Making Business || Agarbatti Making Business

17 thoughts on “जूते का व्यवसाय Shoes Wholesale & Retail Business”

  1. Dear,
    Shakti sir.
    Me gujrat se hu Maine aapka YouTube pe video dekha hawai Chappal manufacturing ka sir muje iska business start karna he to plz sir muje aapki tarf se thode ideas chahiye.

  2. Hello Shakti Sir, main Odisha se hun. hawai slipper business start karne keliye machine kaha se lun. Najdiki jagah ki jankari de.

  3. Shakti ji aap bahut hi accha kaam kar rahe hai. aap ke prayaso ne lakho logo ko rozgaar ke bare main bahut acchi aur sateek jankari mil rahi hai. aap is he tarah ka accha kaam please karte raheiye.

    1. Hii shakti sir main manoj kumar yadav c.g se hawai slipper business start karne keliye machine kaha se lun jankari de

  4. Hello shakti sir main c.g selippr business start karne keliye machine kaha se lun najdiki jagah ki jankari de ..

  5. Hello shakti sir main manoj kumar yadav c.g selippr business start karne keliye machine kaha se lun najdik jagah ki jankari de ..dhanywad…

  6. Hii shakti sir main manoj kumar yadav c.g se hawai slipper business start karne keliye machine kaha se lun jankari de

  7. Hello sir,
    I am from haryana .main apke u tube Chanel smart ideas ka regular visitor hu.or main apse prerit hokar footwear wholesale distributior ka kam karne ja raha hu.so mujhe bataye ki je kam kaise rahega or koun koun se pahlu par hame jyada dhyan dena chahiye.Agar ho sake to mujhe koi communication link jarur dena.Thanks Shakti sir

  8. Sir want to start my own website about jeans as well ladies clothes
    Want your guidance
    Want to talk with you so pls sir give me any contact no

  9. Dear sir
    I am Reji Joseph.I am an online seller. I saw your video of a shoe factory of a village in Agra.One of the owners of that factory was Mr.Salim Usman.You told that there are many factories in this village.Please send me the name and address of that place.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *